(बड़ी खबर) सहारनपुर में इन छात्रों ने लगाए पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे, मुकदमा दर्ज, पहचान हुई : VIDEO

उत्तर प्रदेश के सहारनपुर में ग्लोकल यूनिवर्सिटी के छात्रों ने लगाए पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे, हुई पहचान, मुकदमा दर्ज।

हिंदुस्तान में पठान भले ही पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगा रहा हो, लेकिन पाकिस्तान में भूखा मर रहा है-

पाकिस्तान में आटा 300 रुपए किलो और एक रोटी 30 रुपए की है, जबकि हिंदुस्तान में आटा 40 रु किलो और एक रोटी 6 रु की है। वहीं पाकिस्तान कंगाल हो चुका है और उसके पास मात्र 18 दिन के लिए देश चलाने का पैसा बचा है। पाकिस्तान में पेट्रोल और डॉलर 300 रुपए के करीब है। जबकि भारत में पेट्रोल मात्र 93 रुपए और डॉलर 82 रूपर मात्र है।

यूनिवर्सिटी की चलती बस में पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाने वाले दो छात्रों की पहचान हो गई है। पुलिस ने मामला दर्ज कर अब इनकी तलाश शुरू कर दी है।

बता दें कि सहारनपुर के थाना मिर्जापुर क्षेत्र में पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाए जाने की घटना सामने आई है। यह नारे मिर्जापुर स्थित ग्लोकल यूनिवर्सिटी के छात्रों ने लगाए हैं।

यूनिवर्सिटी के छात्र चलती बस में पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाते हुए साफ दिखाई और सुनाई दे रहे हैं। सोशल मीडिया पर इस वीडियो के वायरल होने के बाद मिर्जापुर थाने में मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।

मिर्जापुर के थाना प्रभारी पीयूष दीक्षित ने बताया कि वायरल वीडियो के आधार पर मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। प्राथमिक पड़ताल में सभी छात्रों के ग्लोकल यूनिवर्सिटी के होने की पुष्टि हुई है। यह पता चला है कि चलती बस में जो छात्र पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाते हुए दिखाई दे रहे हैं वो डी-फार्मा और बी-फार्मा के छात्र हैं।

पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाने वालों में से दो की पहचान शोभन पुत्र रिजवान अहमद और शबाब मलिक पुत्र मोहम्मद दिलशाद निवासी गन कुलड़ी थाना बिहारीगढ़ के रूप में हुई है।

पुलिस अब इन सभी छात्रों की पहचान करा रही है। इनके खिलाफ मिर्जापुर थाने में धारा 153बी और धारा 505 यानी राष्ट्रद्रोह करने और राष्ट्रद्रोह की भावना फैलाने के आरोपों में मामला दर्ज किया गया है।

वीडियो तेजी से सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। बताया जाता है कि इस वीडियो के पहले ट्वीटर के माध्यम से वायरल किया गया। इसके तुरंत बाद सहारनपुर पुलिस ने वीडियो का संज्ञान लेते हुए मुकदमा दर्ज कर लिया है।

यह भी पढ़ें-

यह भी पढ़ें-

यह भी पढ़ें-

धर्म और संस्कृति