Dehradun: देहरादून में रात भर की झमाझम बारिश के बाद दिन ने धूप खिली, जिसे देख कर यहां पहुंचे पर्यटकों के चेहरे खिले हुए दिखे।

आपको बता दें कि नैनीताल, चकराता, मसूरी में भी बर्फबारी हुई है।

और देहरादून में अब तक की शर्दी में सिर्फ २ दिन ही धूप नहीं निकली, जबकि शर्दी में उत्तर भारत में अधिकांश स्थानों पर सूर्य देव के दर्शन भी नहीं हो पाते हैं।

उत्तराखण्ड में आए मौसम के बदलाव से ऊंची वादियों में रुक-रुक कर बर्फबारी का दौर जारी है। बुधवार रात केदारनाथ धाम में भी हिमपात हुआ। शुक्रवार को सरोवर नगरी नैनीताल की ऊंची चायनापीक की चोटी पर मौसम का पहला व हल्का हिमपात हो गया। जबकि नगर क्षेत्र में बर्फ के फुहारों के साथ ओले गिरे। शुक्रवार सुबह के समय हिमपात से सैलानियों के चेहरे खिल उठे।

नैनीताल के चायनापीक समेत किलबरी व छाया वाले क्षेत्र में बर्फ की चादर सी बिछ गई। नगर के निचले क्षेत्र में ओले गिरने से प्रतीत होने लगा कि अब हिमपात भी देखने को मिलेगा, लेकिन बर्फबारी का यह मिजाज अधिक समय बना नहीं रह सका और हिमपात थम गया और तापमान अधिक होने के कारण बर्फ जल्द ही पिघल गई।

देहरादून जिले के ऊंचाई वाले इलाकों लोखंडी, लोहारी, जाड़ी, देवबन में बर्फ की चादर। देहरादून जिले के चकराता के ऊंचाई वाले इलाकों में जमकर बर्फबारी हुई है। जबकि शुक्रवार आधी रात के बाद करीब एक बजे मसूरी में भी बर्फ की फुहारें पड़ीं हैं।

चकराता में तो बृहस्पतिवार देर रात हुई बारिश के बाद बर्फबारी शुरू हो गई। यहां ऊंचाई वाले क्षेत्र लोखंडी, लोहारी, जाड़ी, देवबन, मुंडली, कनासर, खडंबा आदि क्षेत्रों में रास्ते, पहाड़, घर, मकान सभी बर्फ की चादर से ढक गए। जिसके बाद गुरुवार देर शाम तक चटक धूप खिली,जिसके कारण ठंड से राहत महसूस हुई।

वहीं रात करीब ग्यारह बजे के बाद आसमान में बादल छाने व बारिश शुरू हो जाने से एक बार फिर से मौसम का मिजाज फिर से बदल गया। रात में बर्फबारी शुरू हो गई। इससे तापमान माइनस 2 डिग्री तक पहुंच गया।

बर्फबारी की खबर मिलने के साथ ही विकासनगर समेत आसपास के मैदानी इलाकों से पर्यटकों का चकराता पहुंचना शुरू हो गया। हालांकि अभी क्षेत्र में बेहद हल्की बर्फबारी हुई है, लेकिन मौसम के रुख को देखते हुए जल्दी ही अच्छी बर्फबारी की उम्मीद है।

वहीं देहरादून में जहां बृहस्पति वार रात हल्की बूंदाबांदी हुई, शुक्रवार दिन में धूप खिली रही तो शुकवार रात झमाझम बारिश हुई, जो शनिवार प्रातः तक जारी रही।

*यह भी पढ़ें-*

*यह भी पढ़ें-*

*यह भी पढ़ें-*

धर्म और संस्कृति