गुजरात, तमिलनाडु, मुंबई के थे मरने वाले 7 यात्री व पायलेट :उत्तराखण्ड, केदारनाथ हेलीकॉप्टर हादसा update:

देहरादून। उत्तराखण्ड के केदार घाटी में हेलिकॉप्टर क्रेश हो गया है। रुद्रप्रयाग जिले के जंगलचट्टी के पास हई दुर्घटना। हेलीकॉप्टर आर्यन कम्पनी का बताया जा रहा है।

हेलीकॉप्टर में पायलट समेत 7 लोग सवार थे, जो केदारनाथ से वापस लौट रहे थे। सभी की मौत हो गई है। मरने वालों में 03 पुरुष (पायलट सहित) और 04 महिलाएं शामिल हैं। स्पेशल प्रिंसिपल सेक्रेटरी सीएम अभिनव कुमार ने इसकी पुष्टि की है। मृतकों में 3 यात्री गुजरात, 3 तमिलनाडु के यात्री बताए जा रहे हैं।

हेली में सवार व्यक्तियों का विवरण:-

1 श्री अनिल सिंह – पायलट, (उम्र 57 वर्ष) निवासी मुम्बई, महाराष्ट्र
2 श्रीमती उर्वी बराड (25 वर्ष) भावनगर, गुजरात
3 श्रीमती कृति बराड (30 वर्ष) भावनगर, गुजरात
4 श्रीमती पूर्वा रामानुज (26 वर्ष) भावनगर, गुजरात
5 श्रीमती सुजाता (56 वर्ष) अन्ना नगर, चेन्नई
6 श्रीमती कला (50 वर्ष) अन्ना नगर, चेन्नई
7 श्री प्रेम कुमार (63 वर्ष) अन्ना नगर, चेन्नई

केदारनाथ हेली दुर्घटना-

3 गुजरात
3 तमिलनाडु
1 पायलट मुंबई

उत्तराखंड केदारनाथ में हुआ बड़ा हादसा केदारनाथ गरुड़ चट्टी के पास हेलीकॉप्टर क्रैश होने से सात लोगों की मौके पर ही मौत हो गई,

बताया जा रहा है कि केदारनाथ के गरुड़ चट्टी में यह हादसा उस वक्त हुआ जब हेलीकॉप्टर केदारनाथ से वापस लौट रहा था, हेलीकॉप्टर आर्यन कंपनी का बताया जा रहा है।

केदारनाथ से करीब 2 किलोमीटर दूर गरुड़ चट्टी के पास चट्टान से टकराने की वजह से हुआ ये बड़ा हादसा, लगातार हो रही बारिश और फोग लगने की वजह से हादसा हुआ।

बता दें कि आर्यन ग्रुप का जो हेलीकॉप्टर है वह अलग रूट से करता था आना-जाना,,साथ ही ये काफी ऊँचाई से करता था सफर तय इस हेलीकॉप्टर में पायलट सहित 7 लोग मौजूद थे….

हादसे में मरने वालों का नाम पूर्वा रामानुज ,कीर्ति ब्रांड, उर्वी ,सुजता ,प्रेम कुमार, काला ,पायलेट अनिल सिंह, इस दौरान यूकाडा के सीईओ सी रविशंकर ने मीडिया से बातचीत में बताया कि मुंबई की हादसे की वजह खराब मौसम रहा है।

उन्होंने कहा है कि पायलट की कॉल के अनुसार उस वक्त मौसम उड़ान भरने लायक था अचानक बिगड़े मौसम के कारण और पहाड़ी पर बादल छाए रहने के कारण हादसा हुआ है बता दें कि हादसे में तीन लोग गुजरात के रहने वाले तीन तमिलनाडु के और एक मुंबई के थे।

यह भी पढ़ें-

यह भी पढ़ें-

यह भी पढ़ें-

यह भी पढ़ें-

धर्म और संस्कृति