उत्तराखण्ड का लाल दिनेश सिंह बोहरा भी शहीद, अमरनाथ यात्रा ड्यूटी कश्मीर बस हादसा

देहरादून। जम्मू-कश्मीर के पहलगाम में ITBP का वाहन दुर्घटना का शिकार हो गया, बस हादसे में 7 जवान शहीद हो गए हैं और 30 घायल हो गए। 8 जवान गंभीर रूप से घायल हैं, उन्हें इलाज के लिए श्रीनगर लाया गया है। बाकियों का अनंतनाग में इलाज हो रहा है।

अमरनाथ यात्रा ड्यूटी पर जा रहे थे जवान-

सभी जवान अमरनाथ यात्रा ड्यूटी पर जा रहे थे। हादसा चंदनवाड़ी पहलगाम में हुआ है। भारत-तिब्बत सीमा पुलिस ने जानकारी दी है कि बस में कुल 39 जवान थे, जिसमें 37 आईटीबीपी के और 2 जम्मू-कश्मीर पुलिस के थे। बस का ब्रेक फेल होने के बाद वो सड़क से नदी में गिर गई। सैनिक चंदनवाड़ी से पहलगाम की ओर जा रहे थे।

बस में उत्तराखण्ड के पिथौरागढ़ जिले के चंडाक क्षेत्र के भुरमुनी निवासी दिनेश सिंह बोहरा भी शहीद हो गए। दिनेश आईटीबीपी की चौथी बटालियन में 14 साल से तैनात थे। वह इन दिनों अमरनाथ यात्रा में तैनात थे।

सात साल पहले हुई थी शादी-

दिनेश सिंह की शादी सात साल पहले हुई, उनकी तीन साल की बेटी है। दिनेश अपने घर में सबसे बड़े थे। उनके छोटे भाई राकेश बोरा हल्द्वानी में नर्सिंग अधिकारी हैं। शहादत की सूचना मिलने पर पिता पूरन सिंह बोहरा, मां गीता बोहरा, पत्नी बबीता बोहरा का रो-रोकर बुरा हाल हो गया है।

शहादत पर गांव में हिलजात्रा और घी त्यार स्थगित किया गया-

दिनेश सिंह की शहादत की सूचना मिलने के बाद भुरमुनी गांव में बुधवार होने वाला घी त्यार (त्योहार) महोत्सव स्थगित कर दिया गया है। गांव में महोत्सव की तैयारियां चल रही थीं, सभी ग्रामीण इसमें जुटे हुए थे। लेकिन दुखद समाचार मिलने के बाद हर कोई गम में डूब गया। साथ ही इस बार गांव में हिलजात्रा का आयोजन भी नहीं किया जाएगा।

दिनेश बोहरा दो महीने पहले आए थे अपने घर, 3 साल की है बेटी-

दिनेश सिंह बोहरा दो महीने पहले ही घर आए थे। तीन साल की बेटी को दो महीने पहले ही पिथौरागढ़ शहर के एक स्कूल में प्रवेश दिलाया है। दिनेश की पत्नी बच्ची के साथ नगर में किराये पर कमरा लेकर रहती हैं।

मुख्यमंत्री पुष्कर धामी ने हादसे पर जताया शोक-

उत्तराखण्ड के सीएम पुष्कर सिंह धामी ने पहलगाम में हुए बस हादसे पर शोक व्यक्त किया है, मुख्यमंत्री ने ट्वीट करते हुए लिखा “जम्मू-कश्मीर के पहलगाम में दुर्भाग्यपूर्ण बस दुर्घटना में ITBP के जवानों के हताहत होने का अत्यंत दु:खद समाचार प्राप्त हुआ। मैं ईश्वर से शहीद जवानों को अपने श्रीचरणों में स्थान एवं घायलों के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की कामना करता हूं।”

*यह भी पढ़ें-*

*यह भी पढ़ें-*

*यह भी पढ़ें-*

धर्म और संस्कृति