देहरादून। देश में कोरोना महामारी (Corona) एक बार फिर अपना प्रकोप दिखा रही है। उत्तराखण्ड की जेल में 43 कैदी कोविड-19 से संक्रमित पाए गए हैं। जिला स्वास्थ्य अधिकारी खगेंद्र सिंह ने कहा कि 425 कैदियों के नमूने लिए गए थे, जिनमें से 43 कोविड-19 से संक्रमित पाए गए।

जिला स्वास्थ्य अधिकारी खगेंद्र सिंह ने कहा कि उन्हें एक अलग बैरक में पृथक कर रखा गया है। अधिकारियों ने बताया कि कैदियों में हेपेटाइटिस और अन्य संक्रमणों की जांच के लिए जेल परिसर में 28-29 जुलाई के बीच एक शिविर लगाया गया था।

उत्तराखंड में कोरोना के केस लगातार बढ़ते जा रहे हैं। अब हरिद्वार के जिला कारागार में 43 कैदी कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं।

इससे जेल प्रशासन में हड़कंप मच गया है। एहतियात के तौर पर इन सभी कैदियों को अलग बैरक में रख दिया गया है। साथ ही स्वास्थ्य विभाग की टीम उनपर नजर बनाए हुए हैं।

जिला स्वास्थ्य अधिकारी CMO खगेंद्र सिंह का कहना है कि जिला कारागार में 425 कैदियों का सैंपल लिया गया था। उसमें 43 कोरोना पॉजिटिव आए हैं। एहतियात के तौर पर जिला कारागार को सैनिटाइज कर कैदियों को आइसोलेट किया गया है। इनका कहना है कि जिला कारागार में काफी वक्त से कैदियों के सैंपल नहीं लिए गए थे। राज्य सरकार द्वारा सैंपल लेने की कोई गाइडलाइन नहीं जारी की गई है। हमारे द्वारा सुरक्षा की दृष्टि से सैंपल लिए गए हैं। स्वास्थ्य विभाग की टीम रोज इनका चेकअप करेगी।

हरिद्वारा जेल के वरिष्ठ अधीक्षक मनोज कुमार आर्य ने बताया कि 28 जुलाई को ‘हेपेटाइटिस डे’ के अवसर पर एक शिविर लगा था जिसमें कुछ कैदियों का हेपेटाइटिस के ही साथ-साथ आरटीपीसीआर टेस्ट भी हुआ था। हमें आरटीपीसीआर रिपोर्ट प्राप्त हुई है जिसके अनुसार कुछ बंदी पॉजीटिव पाए गए हैं, लेकिन वो जितने भी बंदी है उनमें पहले भी कोई लक्षण नहीं थे। अभी भी उनमें लक्षण नहीं हैं। इनका आइसोलेशन पीरियड भी पूरा हो गया है, लेकिन फिर भी हम उन बंदियों को आइसोलेट कर रहे हैं। साथ ही जो भी प्रोटोकॉल है उस हिसाब से उनका उपचार किया जाएगा। साथ ही उन 43 बंदियों को सुविधाए दी जाएंगी।

धर्म और संस्कृति