शनि देव महाराज को ज्योतिष शास्त्र में न्याय देवता कहा गया है।  शनि महाराज हर व्‍यक्ति को उसके कर्मों के अनुसार फल देते हैं।

कल मंगलवार 12 जुलाई को शनि मकर राशि में प्रवेश कर रहे हैं। शनि देव का यह गोचर पांच राशि वालों की जिंदगी में साढ़े साती और ढैय्या की शुरुवात करेगा, जिसे आप मुश्किल समय कह सकते हैं।

वर्तमान समय में शनि कुंभ राशि में गोचर कर रहे हैं और साथ ही वक्री स्थिति में हैं। वक्री चाल चलते हुए अब शनि मकर राशि में प्रवेश कर जायेंगे। कल मंगलवार 12 जुलाई 2022 को वक्री शनि का मकर राशि में गोचर सभी 12 राशियों पर असर डालेगा।

जबकि इनमें से 5 राशि वालों के लिए यह समय विशेष तौर पर कष्‍टदायी हो सकता है। मकर राशि में शनि का प्रवेश 5 राशियों पर शनि की साढ़े साती और ढैय्या शुरू करेगा। शनि की साढ़े साती और ढैया की यह स्थिति जनवरी 2023 तक बनी रहेगी क्‍योंकि न्याय के देवता शनि महाराज तब तक मकर राशि में ही गोचर करेंगे।

इन 5 राशियों पर होगी शनि की साढ़े साती और ढैया शुरू-

शनि ग्रह के मकर राशि में प्रवेश करते ही पांच राशियों पर शनि की साढ़े साती और ढैय्या शुरू हो जाएगी, वहीं कुछ राशि वालों को शनि की महादशा से राहत भी मिल जाएगी।

मकर राशि में शनि का यह गोचर धनु राशि पर साढ़े साती शुरू करेगा। साथ ही कुंभ और मकर राशि वाले भी साढ़े साती में रहेंगे।

जबकि इसके अलावा मिथुन और तुला राशि के जातक शनि ग्रह की ढैय्या के साए को झेलेंगे और कर्क और वृश्चिक राशि से ढैय्या हटने से बहुत राहत मिलेगी।

कष्‍ट भी देती है साढ़े साती-ढैय्या-

शनि महाराज की साढ़े साती और ढैय्या जातकों को बहुत कष्‍ट भी देती है।

शनि की बुरी नजर व्‍यक्ति को आर्थिक, शारीरिक और मानसिक तीनों तरह से प्रताड़ना दे सकती है।

उसकी सफलता के रास्‍ते बंद हो जाते हैं। किस्‍मत का साथ नहीं मिलता है। धन हानि होती है।

सेहत और रिश्‍तों पर बुरा असर पड़ता है। वह तनाव में जा सकता है।

शनि की साढ़े साती-ढैय्या से राहत पाने के ज्योतिषीय उपाय-

शनि देव की बुरी नजर से राहत पाने का सबसे अच्‍छा तरीका है यह है कि अच्‍छे काम करें। किसी से भी झूठ न बोलें।

दिव्‍यांगों – बुजुर्गों – मजदूरों को परेशान न करें, ना ही उनका अपमान करें।

शनिवार को पीपल के पेड़ के नीचे सरसों के तेल का दीपक जलाएं।

शनि ग्रह से संबंधित चीजों जैसे सरसों के तेल, काले तिल, उड़द की दाल, काले कपड़े, लोहे, काले छाते का दान करें।

*यह भी पढ़ें-*

*यह भी पढ़ें-*

*यह भी पढ़ें-*

धर्म और संस्कृति