गजब: नेपाल सरकार ने काठमांडू में गोलगप्पे, पानीपूरी पर लगा दिया बैन, यह है वजह

गोलगप्पे या पानीपुरी का राज भारत और नेपाल में एक समान है।

सड़कों पर जहां भी निकलिये लोग गोलगप्पे खाते नजर आ ही जाते हैं।

लेकिन अब नेपाल सरकार ने अब एक ऐसा फैसला लिया है कि काठमांडू के लोग गोलगप्पा खाने के लिए तरस जाएंगे।

बिल्कुल आप सही पढ़ रहे हैं। नेपाल सरकार ने देश की राजधानी काठमांडू में गोलगप्पे पर बैन लगा दिया है। अब कोई भी सड़क पर नहीं बेच पाएगा गोलगप्पा। जानकारी के मुताबिक काठमांडू में लगे गोलगप्पे बैन के पीछे स्वास्थ्य मंत्रालय है। उसके एक आदेश से पूरे काठमांडू में गोलगप्पे बिकने बंद हो गये हैं।

बताया यह जा रहा है कि स्वास्थ्य मंत्रालय ने यह फैसला ललितपुर मेट्रोपिलिटन सिटी में हैजा के केसों के बढ़ने के कारण लिया है। दावा किया गया है कि गोलगप्पे में प्रयोग होने वाले पानी में कॉलरा बैक्टीरिया पाया गया है और बिना पानी के गोलगप्पा तो बिक नहीं सकता।

नेपाल सरकार ने राजधानी काठमांडू में गोलगप्पे यानी पानीपूरी पर रोक लगा दी है। स्वास्थ्य मंत्रालय का कहना है कि गोलगप्पे में इस्तेमाल होने वाले पानी में हैजा के बैक्टीरिया पाए गए हैं।

नेपाल सरकार ने राजधानी काठमांडू में ऐसा प्रतिबंध लगाया है जिसे सुनकर सबको हैरानी होती है। दरअसल यहां स्वास्थ्य मंत्रालय ने काठमांडू के एलएमसी में गोलगप्पे पर बैन लगा दिया है। घाटी के ललितपुर मेट्रोपिलिटन सिटी में हैजा के केस बढ़ने के बाद यह फैसला किया गया है। दावा किया गया है कि पानी-पूरी में इस्तेमाल होनें वाले पानी में कॉलरा बैक्टीरिया पाया गया है।

म्युनिसिपल पुलिस चीफ सीताराम हचेतू के मुतबिक भीड़भाड़ वाले इलाकों और कॉरिडोर एरिया में पानीपूरी की बिक्री पर रोक लगाने की पूरी तैयारी की गई है। उनका कहना है कि पानीपूरी की वजह से हैजा के मामलों का बढ़ने का खतरा है। रविवार को काठमांडू में हैजा के सात नए मामले मिले। इसके साथ ही घाटी में कुल मरीजों की संख्या 12 हो गई है।

नेपाल के स्वास्थ्य मंत्रालय के अंतरगत एपिडेमियोलॉजी ऐंड डिजीज कंट्रोल डिविजन के डायरेक्टर चमनलाल दास ने कहा कि काठमांडू मेट्रोपोलिस में कॉलरा के पांच मामले पाए गए। इसके अलावा एक केस चंद्रागिरि म्युनिसिपालिटी में और एक बुधानीकांता म्युनिसिपालिटी में पाया गया। इस बीच स्वास्थ्य मंत्रालय ने लोगों को सलाह दी है कि हैजा का कोई भी लक्षण नजर आते ही नजदीकी अस्पताल में संपर्क करें।

सरकार ने लोगों से अपील की है कि वे बारिश और गर्मी के मौसम में फैलने वाली जल जनित बीमारियों जैसे कि डायरिया, कॉलरा से सावधान रहें।

*यह भी पढ़ें-*

*यह भी पढ़ें-*

*यह भी पढ़ें-*

धर्म और संस्कृति