उत्तराखण्ड मौसम एलर्ट: इस दिन आएगा मानसून, प्री मानसून और येलो एलर्ट

देहरादून (Weather Alert) मौसम विभाग की जानकारी के अनुसार इस बार मानसून की दस्तक में कुछ देरी हो सकती है। जबकि इससे पहले मौसम विभाग ने कहा था कि मानसून 1 जून की बजाय 27 मई को ही केरल में दस्तक दे देगा, लेकिन ऐसा हुआ नहीं अब धीरे-धीरे मानसून आगे बढ़ेगा।

मौसम विभाग के पूर्व अनुमान के मुताबिक केरल में मानसून का आगमन के अनुकूल स्थितियां बनी हुई है, संभावना है कि अगले 2-3 दिनों के अंदर, 30 मई तक मानसून के दस्तक देने की उम्मीद जताई जा रही है।

केरल में मानसून पहुंचने के बाद धीरे-धीरे मानसून देशभर के अन्य राज्यों में पहुंचता है। करीब 20 जून तक गुजरात मध्य प्रदेश यूपी और उत्तराखण्ड तक मानसून पहुंचेगा। जबकि आज भी उत्तराखण्ड के कई जिलों में हल्की से मध्यम बारिश होने के आसार हैं, उत्तराखंड में गर्मी से पिछले एक सप्ताह से राहत है।

संभावना यह भी जताई जा रही है कि उत्तराखण्ड में इस साल मानसून के पहले पहुचे, राज्य में दस जून तक मानसून दस्तक दे सकता है। भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने बीते दिनों जारी अपनी रिपोर्ट में इसकी संभावना व्यक्त की थी।

वहीं, पंतनगर कृषि विश्वविद्यालय के मौसम वैज्ञानिक डॉ. आरके सिंह ने बताया अमूमन उत्तराखंड में 21 जून के बाद मानसून दस्तक देता है। लेकिन, इस साल पड़ी भीषण गर्मी से मानसून समय से पहले पहुंचने की संभावना है।

भारतीय मौसम विज्ञान विभाग ने मानसून की मौजूदा रफ्तार देखते हुए इस बार समय से 12 दिन पहले इसके पहुंचने की संभावना व्यक्त की है। इससे पूर्व 15 जून तक मानसून के दस्तक देने की संभावना थी। लेकिन, मौजूदा रफ्तार के कारण पांच दिन पहले मानसून सक्रिय होने का अनुमान है।

उत्तराखण्ड में मानसून सक्रिय होने की तारीख 21 जून है। लेकिन, पिछले पांच साल में मानसून सिर्फ एक बार समय से पहले पहुंचा है। इसके अलावा हर बार मानसून में एक से दो हफ्ते की देरी हुई है। डॉ. आरके सिंह ने बताया पिछले साल 2021 में 18 जून को मानसून सक्रिय हुआ था। इसके अलावा 2020 में 03 जुलाई, 2019 में 03 जुलाई, 2018 में 28 जून और 2017 में भी 28 जून को मानसून सक्रिय हुआ था।

लेकिन 28 मई के बाद प्री-मानसून देगा राहत-

पंतनगर विश्वविद्यालय के मौसम वैज्ञानिक डॉ. आरके सिंह ने बताया 28 मई के बाद प्री-मानसून की बारिश शुरू होने की संभावना है। इससे एक से दो दिन के अंतराल पर हल्की बूंदाबांदी होते रहेगी। बूंदाबांदी होने से तापमान ऊपर नहीं जाएगा। 10 जून से मानसून के साथ ही बारिश शुरू हो जाएगी।

इन जनपदों में यलो अलर्ट-

वहीं, बारिश की संभावनाओं को देखते हुए मौसम विभाग की ओर से येलो अलर्ट जारी किया गया है। मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक के मुताबिक, पश्चिमी विक्षोभ की सक्रियता, बंगाल की खाड़ी से आ रही नम हवाओं के गठजोड़ से मौसम में बदलाव देखने को मिल रहा है।

मौसम विज्ञानियों ने 24 घंटे के भीतर उत्तरकाशी, रुद्रप्रयाग, चमोली, बागेश्वर, पिथौरागढ़ में तेज हवाओं संग बारिश की संभावना जताई है। बिजली गिरने के साथ ही ओलावृष्टि की भी संभावना है।

पर्वतीय एंव कहीं कही मैदानी इलाकों में 30 से 40 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं भी चल सकती हैं। पर्वतीय इलाकों में हल्की से लेकर मध्यम बारिश की संभावनाओं को देखते हुए मौसम विभाग की ओर से येलो अलर्ट जारी किया गया है।

मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक के अनुसार पश्चिमी विक्षोभ की सक्रियता, बंगाल की खाड़ी से आ रही नम हवाओं के गठजोड़ से मौसम में बदलाव देखने को मिल रहा है। उत्तरकाशी, रुद्रप्रयाग, चमोली, बागेश्वर, पिथौरागढ़ में तेज हवाओं के साथ बारिश के आसार हैं।

यह भी पढ़ें-

यह भी पढ़ें-

यह भी पढ़ें-

धर्म और संस्कृति