the95news

बाबा केदारनाथ धाम (बड़ी खबर) अब श्रद्धालु रात 10:30 बजे तक करेंगे दर्शन, 5 घंटे बढ़ाये, चारधाम में प्रतिदिन दर्शनार्थियों की संख्या में भी वृद्धि

 
केदारनाथ धाम मंदिर में दर्शन की समय अवधि पांच घंटे बढ़ा दी गई।

श्रद्धालु अब रात 10:30 बजे तक कर सकेंगे बाबा केदार के दर्शन।

चारधाम में प्रतिदिन दर्शनार्थियों की संख्या में भी सरकार ने किया इजाफा।

बाबा केदार के दर्शन के लिए प्रशासन ने क्यू मैनेजमेंट सिस्टम किया लागू।

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने गंगोत्री, यमुनोत्री, केदारनाथ, बदरीनाथ धाम में प्रतिदिन दर्शन करने वाले यात्रियों की संख्या में 1-1 हजार का इजाफा कर दिया है। यात्रियों की बढ़ती भीड़ व उनको हो रही असुविधा को देखते हुए यह निर्णय लिया गया है।

वहीं केदारनाथ मंदिर में दर्शन की अवधि पांच घंटे बढ़ाई गई है, पहली पारी में दो घंटे और दूसरी में तीन घंटे मंदिर में दर्शनों की अवधि बढ़ाई गई है। पहले सुबह 6 से दोपहर बाद 3 बजे तक और शाम 5 से रात 8:30 बजे तक दर्शन होते थे। केदारनाथ धाम में श्रद्धालुओं की उमड़ रही भारी भीड़ को देखते हुए दर्शन की पहली पारी में 2 घण्टे और दूसरी में 3 घंटे बढ़ा दी गई है।

श्रद्धालु अब देर रात 10:30 तक बाबा केदार के दर्शनों का पुण्य अर्जित कर सकते हैं। लेकिन, लाइन में लग चुके श्रद्धालुओं की संख्या अधिक होने पर, मंदिर के कपाट तब तक खुले रखे जाएंगे, जब तक कि अंतिम श्रद्धालु दर्शन नहीं कर लेता। चाहे तय अवधि से अधिक समय तक मंदिर के कपाट खुले रखने पड़ें।

लगातार बारिश व ठंड के बावजूद प्रतिदिन करीब बीस हजार श्रद्धालु बाबा केदारनाथ के दर्शनों को केदारपुरी पहुंच रहे हैं। इससे दर्शनों के लिए तीन-तीन किमी लंबी लाइन लग जा रही है। श्रद्धालु बेस कैंप स्थित हेलीपैड से सरस्वती पुल होते हुए मंदिर तक लाइन में लगकर घंटों अपनी बारी का इंतजार कर रहे हैं।

भारी भीड़ के चलते श्रद्धालुओं को हो रही दिक्कतों को देखते हुए श्री बदरीनाथ-केदारनाथ मंदिर समिति ने दर्शनों की अवधि में पांच घंटे की बढ़ोत्तरी की है। नई व्यवस्था के अनुसार श्रद्धालु अब पहली पारी में सुबह 4 बजे से दोपहर बाद 3 बजे तक और दूसरी पारी में शाम 4 बजे से रात 10:30 बजे तक बाबा के दर्शन कर सकते हैं। वहीं दोपहर बाद तीन से चार बजे तक एक घंटे साफ-सफाई, शृंगार व भोग के लिए मंदिर के कपाट बंद रखे जा रहे हैं।

मंदिर समिति के प्रभारी कार्याधिकारी (केदारनाथ) आरसी तिवारी ने बताया मंगलवार से मंदिर में ब्रह्ममुहूर्त से पूर्व ही विशेष पूजाएं शुरू हो जा रही हैं। सुबह ठीक चार बजे मंदिर श्रद्धालुओं के दर्शनार्थ खोल दिया जा रहा है। जिलाधिकारी मयूर दीक्षित ने कहा कि दर्शनों के लिए भारी भीड़ को देखते हुए मंदिर समिति से दर्शनों की अवधि बढ़ाने को कहा गया था। ताकि अधिक से अधिक यात्री दर्शन कर सकें और भीड़ पर भी नियंत्रण बना रहे।

केदारनाथ धाम मंदिर में दर्शनों के लिए उमड़ रही भीड़ को देखते हुए श्रद्धालुओं को सभामंडप से ही गर्भगृह में विराजमान स्वयंभू शिवलिंग के दर्शन कराए जा रहे हैं। सिर्फ विशेष पूजाएं ही गर्भगृह में संपन्न हो रही हैं।

रुद्रप्रयाग के जिलाधिकारी मयूर दीक्षित ने कहा कि हमारा प्रयास है कि भक्तों को बाबा केदार के दर्शन त्वरित गति से अधिक से अधिक संख्या में कराये जायें। इसके लिये क्यू मैनेजमेंट का होना जरूरी है और जो भी भक्त दर्शन करने के लिये आ रहे हैं, उनके लिये बैरेकेडिंग की व्यवस्था की गई है, ताकि सभी भक्त लाइन में लगकर दर्शन करें। वीआईपी गेट पर भी अत्यधिक भीड़ जमा हो जाती थी। यहां भी बैरेकेडिंग की गई है।

केदारनाथ धाम पहुंचने वाले यात्रियों को जल्द से जल्द बाबा केदार के दर्शन कराने के लिये प्रशासन ने क्यू मैनेजमेंट सिस्टम लागू कर दिया है। साथ ही मंदिर के दोनों द्वारों पर पक्की बैरेकेडिंग करवा दी है। बैरेकेडिंग होने से कोई भी यात्री न तो लाइन तोड़ेगा और न कोई दूसरा व्यक्ति लाइन में घुसेगा। इसके साथ ही मंदिर के वीआईपी गेट से भी कोई अंदर नहीं घुसेगा। केदारनाथ धाम में इन दिनों भक्तों की भारी भीड़ उमड़ रही है।

मात्र पांच दिन की ही यात्रा में 90 हजार से अधिक यात्री केदारनाथ पहुंच चुके हैं। यात्रियों की संख्या अधिक होने के कारण केदारनाथ में बाबा के दर्शन के लिये एक किलोमीटर लंबी लाइन लग रही है। साथ ही मुख्य द्वार पर भक्तों की भारी भीड़ जमा हो रही है। बैरेकेडिंग न होने के कारण बार-बार लाइन टूट रही थी और घंटों तक लाइन आगे नहीं बढ़ पा रही थी। कई बार यात्री बीच में घुस रहे थे, लेकिन प्रशासन ने अब मंदिर के मुख्य द्वार व वीआईपी द्वार पर पक्की बैरेकेडिंग कर दी है। जो भी यात्री अब धाम में पहुंचेगा, वह लाइन में लगकर ही दर्शन करेगा।

*यह भी पढ़ें-*

*यह भी पढ़ें-*

*यह भी पढ़ें-*

धर्म और संस्कृति