the95news

चंपावत उप चुनाव में कांग्रेस की निर्मला गहतोड़ी और सीएम पुष्कर सिंह धामी के बीच होगा मुकाबला, कांग्रेस को लगा झटका

देहरादून। कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी ने चंपावत उपचुनाव के लिए श्रीमती निर्मल गहतोड़ी के नाम का एलान कर दिया है।

वहीं भाजपा की ओर से प्रत्याशी मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी होंगे, जिसका एलान पार्टी पहले ही कर चुकी है। 9 मई को सीएम धामी चंपारण उपचुनाव में अपना पर्चा दाखिल करेंगे।

वहीं धनोल्टी से कांग्रेस प्रत्याशी रहे जोत सिंह बिष्ट ने पार्टी को अलविदा कह दिया। बिष्ट ने सोशल मीडिया के जरिये अपने 40 साल के कांग्रेस के सफर को टाटा-बाय-बाय कहा।

आपको बता दें कि सीएम धामी के चुनाव हारने के बाद बीजेपी विधायक कैलाश गहतोड़ी ने चंपावत विधानसभा सीट मुख्यमंत्री धामी के लिए खाली की है। जिसपर 31 मई को मतदान होना है व 3 जून को वोटों की गिनती व परिणाम आना है।

आपको यह भी बता दें कि उत्तराखण्ड विधानसभा चुनाव 2022 में सीएम धामी के नेतृत्व में भाजपा ने 70 में से 47 सीट हासिल की लेकिन धामी स्वयम चुनाव हार गए थे। भाजपा आलाकमान ने सीएम धामी पर ही अपना भरोसा जताते हुए उन्हें फिर से मुख्यमंत्री बनाया है, जिसके लिए उन्हें 6 महीने में चुनाव जीत कर विधानसभा पहुंचना है। आपको बता दें कि उत्तराखण्ड में उत्तर प्रदेश की तरह विधान परिषद नहीं है।

वहीं चुनाव में कांग्रेस ने खराब प्रदर्शन करते हुए 70 में से मात्र 19 सीट ही जीती, जबकि 2 सीट बसपा व 2 सीट निर्दलीयों के खाते में गई थीं।

वहीं कांग्रेस प्रदेश उपाध्यक्ष जोत सिंह बिष्ट ने अपना इस्तीफा देते हुए social midea पर लिखा-

मा0 सोनिया गांधी, श्री राहुल गांधी, श्री हरीश रावत, श्री यशपाल आर्य जी, श्री करण महरा जी, श्री प्रीतम सिंह चौहान जी एवं उत्तराखंड कांग्रेस के सभी वरिष्ठ/कनिष्ठ सहयोगी साथियों के संज्ञानार्थ!

आप सबके स्नेह एवं सहयोग से मैंने अपने राजनीतिक जीवन के 40 वर्षों का सफर तय किया है। आज आप सभी साथियों को अत्यंत दुःखी मन से सूचित कर रहा हूँ कि कांग्रेस पार्टी में लंबे समय से चल रहे अंतर्कलह, अनुशासन हीनता, निष्ठावान कार्यकर्ताओं की अनदेखी व एक तरफा फैसलों के चलते पार्टी का भविष्य अनिश्चितता की ओर जा रहा है। नेतृत्व की पांत में बैठे लोग लगातार हार के बाद भी सबक लेने के बजाय व्यक्तिगत हितों के लिए संघर्ष कर रहे हैं। इसमें मुझे अब दूर दूर तक सुधार की कोई गुंजाइश नहीं दिखाई देती है, इसलिए किसी पर किसी प्रकार का व्यक्तिगत आरोप न लगाकर तथा कोई व्यक्तिगत दुर्भावना रखे बिना मैं कांग्रेस पार्टी के सभी पदों के साथ पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से त्यागपत्र दे रहा हूँ।

मेरी कार्यशैली की वजह से मुझे पसंद या नापसंद करने वाले आप सभी साथियों का आभार प्रकट करता हूँ। फैसला लेते हुए मन बहुत आहत है। बातें तो बहुत हैं लेकिन अब ज्यादा लिखना सम्भव नहीं है।

मा0 सोनिया गांधी, श्री राहुल गांधी, श्री हरीश रावत, श्री यशपाल आर्य जी, श्री करण महरा जी, श्री प्रीतम सिंह चौहान जी एवं उत्तराखंड कांग्रेस के सभी वरिष्ठ/कनिष्ठ सहयोगी साथियों के संज्ञानार्थ!
आप सबके स्नेह एवं सहयोग से मैंने अपने राजनीतिक जीवन के 40 वर्षों का सफर तय किया है। आज आप सभी साथियों को अत्यंत दुःखी मन से सूचित कर रहा हूँ कि कांग्रेस पार्टी में लंबे समय से चल रहे अंतर्कलह, अनुशासन हीनता, निष्ठावान कार्यकर्ताओं की अनदेखी व एक तरफा फैसलों के चलते पार्टी का भविष्य अनिश्चितता की ओर जा रहा है। नेतृत्व की पांत में बैठे लोग लगातार हार के बाद भी सबक लेने के बजाय व्यक्तिगत हितों के लिए संघर्ष कर रहे हैं। इसमें मुझे अब दूर दूर तक सुधार की कोई गुंजाइश नहीं दिखाई देती है, इसलिए किसी पर किसी प्रकार का व्यक्तिगत आरोप न लगाकर तथा कोई व्यक्तिगत दुर्भावना रखे बिना मैं कांग्रेस पार्टी के सभी पदों के साथ पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से त्यागपत्र दे रहा हूँ।
मेरी कार्यशैली की वजह से मुझे पसंद या नापसंद करने वाले आप सभी साथियों का आभार प्रकट करता हूँ। फैसला लेते हुए मन बहुत आहत है। बातें तो बहुत हैं लेकिन अब ज्यादा लिखना सम्भव नहीं है।
आप सभी का हार्दिक धन्यवाद। बाबा केदार सबकी रक्षा करें।

आप सभी का हार्दिक धन्यवाद। बाबा केदार सबकी रक्षा करें।

*यह भी पढ़ें-*

*यह भी पढ़ें-*

*यह भी पढ़ें-*

धर्म और संस्कृति