the95news

बुकिंग पर आए टैक्सी मालिक की हत्या, जंगल में मिला शव :अल्मोड़ा/खटीमा

अल्मोड़ा/खटीमा। एक टैक्सी मालिक व रेस्टोरेंट मालिक की हत्या कर शव खटीमा के चकरपुर जंगल में फेंक दिया गया। मृतक देवेंद्र सिंह बिष्ट का लहूलुहान शव जंगल मे पड़ा मिला। मामले से सनसनी फैल गई। मृतक अल्मोड़ा से नैनीताल बुकिंग पर आया था।

सुबह लोगों ने शव देखा तो दहशत फैल गई। सूचना पर पहुंची पुलिस ने मौके पर पहुंचकर शव को अपने कब्जे में ले लिया है। साथ ही उसके परिजनों को सूचना दे दी है। हत्या के कारणों का फिलहाल पता नहीं चल सका है। पुलिस सीसीटीवी कैमरे भी खंगाल रही है। मामले की हर तरह से जांच पड़ताल की जा रही है।

अल्मोड़ा जिले के भैसियाछाना विकासखंड के ग्राम काछुला पोस्ट ऑफिस धौलछीना निवासी 34 वर्षीय देवेंद्र सिंह बिष्ट पुत्र स्वर्गीय मदन सिंह बिष्ट का अल्मोड़ा में रेस्टोरेंट है। उनके पास कामर्शियल यूज की एक इनोवा कार है। इसे वह टैक्सी के रूप में खुद संचालित करता था। उसके पास मिले मोबाइल नंबरों से पुलिस ने उसके परिजनों को सूचना दी।

मृतक के भाई नंदन सिंह बिष्ट ने पुलिस को बताया की 5 मार्च को वह अल्मोड़ा से नैनीताल बुकिंग के लिए निकला था। इसके बाद वह यहां कैसे पहुंचा इसकी जानकारी फिलहाल नहीं है।

सोमवार को चकरपुर से बनबसा के जंगल में राजमार्ग किनारे उसकी इनोवा कार खड़ी मिली। जबकि उसका शव नीचे खाई में पढ़ा हुआ था। मृतक के सिर पर गहरे घाव का निशान है। साथ ही मौके पर अत्यधिक खून फैला हुआ था। जबकि उसके जूते शव से 10 मीटर दूर इधर-उधर पड़े हुए थे। ऐसे में आशंका जताई जा रही है कि हत्या के दौरान उसने हत्यारों से खूब संघर्ष किया होगा।

शव पड़े होने की जानकारी राहगीरों ने पुलिस को दी। जिसके बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने शव कब्जे में ले लिया। सीमांत पुलिस चौकी शव मिलने के स्थान के करीब ही है।

सूचना मिलने पर पुलिस क्षेत्राधिकारी भूपेंद्र सिंह भंडारी, एसएसआई देवेंद्र गौरव मौके पर पहुंचे। मामले की जांच पड़ताल शुरू कर दी है।

मृतक देवेंद्र सिंह बिष्ट का कलोन, धौलछीना में रेस्टारेंट है, जिसे वह खुद चलाता था। जबकि उसके दो भाईयों का रिसोर्ट है। मृतक के दो बच्चे है। इस घटना के बाद परिजनों में कोहराम मचा हुआ है।

आपको बता दें कि अभी कुछ दिन पूर्व मसूरी में हाथीपांव पार्क एस्टेट स्थित जार्ज एवरेस्ट में फूड वैन चलाने वाले सुनील की हत्या कर शव जार्ज एवरेस्ट हाउस के निकट जंगल में फेंक दिया गया था। जिस चाकू से सुनील का गला काटा गया, वह उसकी ही जेब से बरामद हुआ। आसपास सीसीटीवी कैमरे न होने के चलते पुलिस अभी तक हत्यारोपितों की पहचान नहीं कर पाई है। सुनील ने अंतिम फोन विकासनगर में किराये के मकान में रह रही पत्नी को किया था। मृतक सुनील के पिता जखनोग लखवाड़ निवासी संतराम की ओर से कोतवाली में तहरीर दी गई थी।

यह भी पढ़ें-

यह भी पढ़ें-

धर्म और संस्कृति