the95news


तालिबान ने गर्भवती महिला पुलिसकर्मी की बर्बर हत्या, आरोप, बात करने से डर रहे हैं ख़ौफ़ज़दा लोग

तालिबान ने अफ़ग़ानिस्तान के एक शहर में एक गर्भवती महिला पुलिसकर्मी की हत्या कर दी है। मीडिया रिपोर्टर के मुताबिक महिला का नाम बानू नेगर था और उन्हे घोर ज़िले के फ़िरोज़कोह शहर में उनके घर पर परिवार के सामने मार दिया गया है। हत्या की यह घटना पिछले दिनों में अफ़ग़ानिस्तान में महिलाओं के ख़िलाफ़ बढ़ती हिंसा की ख़बरों के बीच हुई है।

महिला के रिश्तेदारों ने बीबीसी को ये जानकारी दी है। कुछ वीभत्स तस्वीरें भेजी हैं जिनमें दीवारों पर ख़ून दिख रहा है और कोने में एक लाश पड़ी है जिसका चेहरा विकृत है।

8 महीने की गर्भवती थी पुलिसकर्मी

ख़बर के मुताबिक स्थानीय जेल में काम करने वालीं नेगर आठ महीने गर्भवती थी। वहीं एक चश्मदीद ने बताया कि वहां मौजूद तालिबान लड़ाके अरबी में बातें कर रहे थे।

अफ़ग़ानिस्तान पर कब्ज़ा करने साथ ही तालिबान ने खुद को सहिष्णु पेश करने की कोशिश की है लेकिन हिंसा और दमन के घटनाओं की ख़बरें देश के कई इलाकों से अभी भी आ रही हैं। मानवाधिकार समूहों ने धार्मिक अल्पसंख्यकों की प्रतिशोध हत्याओं, नजरबंदी और उत्पीड़न के कई मामले दर्ज किए हैं।

तालिबान ने आधिकारिक तौर पर कहा है कि वह पूर्व सरकार के लिए काम करने वालों के खिलाफ कार्यवाई नहीं करेगा। वहीं तालिबान अधिकारियों ने शनिवार को काबुल में दर्जनों महिलाओं द्वारा किए गए प्रदर्शन पर भी कार्यवाई की। महिलाएं पिछली सरकार में दिए गए अधिकारों को जारी रखने की मांग कर रही थीं।

बीबीसी ने तालिबान के अधिकारियों से घटना से जुड़े सवाल किए। परिवार का कहना है कि स्थानीय तालिबान ने जांच की बात कही है। जबकि वारदात की सटीक जानकारी नहीं मिल पाई है क्योंकि फ़िरोज़कोह में कई लोगों इस बारे में बात करने से डर रहे हैं, लोगों में खोफ है।

धर्म और संस्कृति