the95news

the95news

the95news

सूर्य ग्रहण, शनि अमावस्या दोनों आज 10 जून को, आपकी राशि पर प्रभाव व उपाय देखें-

10 जून 2021 बृहस्पतिवार। आज ज्येष्ठ मास की कृष्ण पक्ष की अमावस्या की तिथि को शनि अमावस्या है, शनि जयंती के दिन साल का पहला सूर्य ग्रहण भी लग रहा है। सूर्य ग्रहण भारत में आंशिक रहेगा। भारतीय ज्योतिषशास्त्र के अनुसार सूर्य ग्रहण का वृषभ राशि पर सबसे ज्‍यादा प्रभाव पड़ेगा।

सूर्य ग्रहण करीब 5 घंटे तक-

सूर्य ग्रहण आज दोपहर 1 बजकर 42 मिनट से शुरू होगा और शाम के 6 बजकर 41 मिनट तक रहेगा।

शनि जयंती-

अमावस्या तिथि प्रारंभ: 09 जून 2021 दोपहर 01 बजकर 57 मिनट।
अमावस्या तिथि समापन: 10 जून 2021 शाम 04 बजकर 22 मिनट।

सूर्य ग्रहण कहाँ और कितना-

आज लगने वाला सूर्य ग्रहण भारत के अरुणाचल प्रदेश और लद्दाख के कुछ हिस्सों में आंशिक रूप से दिखाई देगा। सूर्य ग्रहण उत्तर-पूर्वी अमेरिका, यूरोप, एशिया, अटलांटिक महासागर के उत्तरी हिस्से, ग्रीनलैंड, उत्तरी कनाडा और रूस में दिखाई देगा। भारत में आंशिक सूर्य ग्रहण होने के कारण इसमें सूतक नियमों का पालन नहीं किया जाएगा।

वृषभ राशि पर सबसे ज्‍यादा असर-

सूर्य ग्रहण ब्रह्माण्ड में घटने वाली एक खगोलीय घटना है लेकिन धार्मिक रूप से इसे शुभ नहीं माना जाता है। भारतीय ज्योतिष के अनुसार, यह ग्रहण भले ही आंशिक ग्रहण है लेकिन इसका प्रभाव सभी राशियों पर पड़ेगा। ज्योतिष के अनुसार आज के दिन चंद्रमा वृषभ राशि पर संचार करेगा। इससे वृषभ राशि के जातकों को सतर्क रहने की आवश्यकता है। इस राशि वालों को स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं हो सकती हैं। साथ ही धन हानि भी हो सकती है। वृषभ राशि वाले इस समय सोच-समझकर निवेश करें।

शास्त्रों में ग्रहण के नकारात्‍मक प्रभाव से भी बचने के उपाय-

महा मृत्युंजय मंत्र का जाप करें और ग्रहण खत्म होने के बाद गंगाजल छिड़क कर घर को शुद्ध करें। साथ ही ग्रहण के बार गरीबों को दान करें।

शनि जयंती-

आज 10 जून गुरुवार को ही शनिदेव का जन्मदिवस यानी शनि जयंती का पर्व भी है। शनि जयंती की पूजा सूर्य ग्रहण के कारण प्रभावित नहीं होगी। भारत में आंशिक सूर्य ग्रहण होने के कारण मंदिरों के कपाट बंद नहीं होंगे।

शनि देव के उपाय-

शास्त्रों के अनुसार शनि जयंती पर शनि के उपाय करने से शनि देव प्रसन्न होते हैं।
इस दिन शनि देव से जुड़ी वस्तुओं का दान करना उत्तम माना गया है।
इस दिन सरसों का तेल, काली उड़द की दाल, काले तिल आदि का दान करना अच्छा माना गया है।

सूर्य ग्रहण का राशियों पर सम्भावित प्रभाव-

मेष-

मेष राशि के लोगों को धन- हानि की संभावना है। धन का खर्च सोच- समझकर ही करें, वाद-विवाद से दूर रहें। किसी भी काम को करने से पहले अच्छी तरह सोच- विचार करें।

वृष-

वृष राशि वालों को स्वास्थ्य संबंधिक समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। सूर्य ग्रहण के दौरान सावधान रहना होगा। धन- हानि हो सकती है। कार्यक्षेत्र में हर किसी पर भरोसा करने से नुकसान सम्भव है।

मिथुन-

मिथुन राशि वालों को आर्थिक समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। धन- खर्च सोच- समझकर करें। कोई भी फैसला सोच-समझकर ही लें। आपको सावधान रहना होगा।

कर्क-

कर्क राशि वालों को मानसिक तनाव का सामना करना पड़ सकता है। वाद- विवाद से दूर रहें, वरना नुकसान हो सकता है। हर किसी पर भरोसा न करें। शांत रहने का प्रयास करें।

सिंह-

सिंह राशि वालों का धार्मिक और आध्यात्मिक कार्यों में मन लगेगा। आर्थिक समस्याओं से छुटकारा मिल सकता है। परिवार के साथ समय व्यतीत करें। दांपत्य जीवन में आनंद का अनुभव कर सकते हैं।

कन्या-

कन्या रशो वालों के धन- हानि होने के योग बन रहे हैं। मानसिक तनाव हो सकता है। धैर्य से काम लें। स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखने की आवश्यकता है। लेन- देन न ही करें तो अच्छा।

तुला-

तुला राशि वालों को दांपत्य जीवन में परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। जीवनसाथी के साथ समय व्यतीत करें। मन अशांत हो सकता है। किसी प्रकार की जल्दबाजी न करें, धैर्य बनाए रखने की आवश्यकता।

वृश्चिक-

वृश्चिक राशि वालों को सावधान रहने की आवश्यकता है। स्वास्थ्य संबंधित समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। सकारात्मक रहने का समय है, तनाव सम्भव।

धनु-

धनु राशि वालों का आर्थिक पक्ष मजबूत होगा। लेन- देन कर सकते हैं। किसी भी तरह के निवेश के लिए समय काफी अच्छा है। कार्यों में सफलता जरूर मिलेगी, अधिक मेहनत करने की जरूरत है।

मकर-

मकर राशि वाले के अपना ध्यान रखें, स्वास्थ्य खराब हो सकता है। धन- हानि के भी योग बन रहे हैं। धैर्य से काम लेंवें।

कुंभ-

कुंभ राशि वालों को स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखना होगा। परिवार के सदस्यों के साथ समय व्यतीत करें। किसी बाहरी व्यक्ति पर भरोसा करने से पहले अच्छी तरह सोच- विचार कर लें। गुस्से में कोई भी निर्णय न लें।

मीन-

मीन राशि वालों को किसी भी कार्य को करने से पहले अच्छी तरह सोच- विचार करना चाहिए। स्वास्थ्य का ध्यान रखें। लवर के साथ समय व्यतीत करें। परिवार के सदस्यों से सहयोग प्राप्त होना संभव।

धर्म और संस्कृति