सूर्य का राशि परिवर्तन: इस राशि में गोचर, जानें आपकी राशि पर प्रभाव

भारतीय ज्योतिष के अनुसार नवग्रहों के राजा सूर्य 13 अप्रैल की मध्यरात्रि के बाद 2 बजकर 31 मिनट पर मीन राशि से अपने मित्र मंगल की राशि मेष में प्रवेश कर रहे हैं। इस राशि में सूर्य 14 मई की रात्रि 11 बजकर 22 मिनट तक रहेंगे। जिसके बाद वृषभ राशि में प्रवेश कर जाएंगे।

सूर्य व मंगल दोनों ही गर्म ग्रह बताए गए हैं। इनके प्रभाव में आने वाली लोगों का मिजाज इस दौरान झगड़ालू रह सकता है। इसलिए अपने स्वभाव में नर्मी रखें। मेष राशि पर गोचर करते समय सूर्य सर्वाधिक बलवान माने गए हैं और इनके फल में भी कई गुना वृद्धि आ जाती है। किसी भी जातक की जन्म कुंडली में बलवान सूर्य राजसत्ता का पूर्ण सुख प्रदान करते हैं। ऐसे व्यक्ति धनी, मानी और यशस्वी होते हैं। वो जहां भी जाते हैं अपने आकर्षक व्यक्तित्व की छाप छोड़ देते हैं तथा जन-मानस को अपनी तरफ मोड़ लेते हैं। शोधपरक एवं आविष्कार कार्यों के क्षेत्र में ऐसे लोग अच्छा नाम कमाते हैं।

सूर्य के मेष राशि मे गोचर का आपकी राशि पर प्रभाव-

मेष-
मेष राशि के जातकों की राशि में गोचर करते हुए सूर्य अत्यधिक ऊर्जाशक्ति प्रदान करेंगे। सोची समझी सभी रणनीतियां कारगर सिद्ध होगी। मान सम्मान और पद प्रतिष्ठा की वृद्धि होगी। कार्यक्षेत्र का विस्तार सम्भव है। नया कार्य आरंभ करना, अथवा नए अनुबंध पर हस्ताक्षर करने की दृष्टि से भी अवसर बेहतरीन रहेगा। विद्यार्थियों को भी अच्छी सफलता के योग हैं।

वृषभ-
वृषभ राशि में भागदौड़ की अधिकता रहेगी। व्यर्थ व्यय से आर्थिक तंगी का भी सामना करना पड़ सकता है। स्वास्थ्य विशेष करके बाई आंख से संबंधित समस्या से सावधान रहें। शरीर में कैल्शियम की कमी न होने दें। अप्रिय समाचार प्राप्ति के योग। विदेशी कंपनियों में नौकरी अथवा नागरिकता के लिए आवेदन करना श्रेयस्कर रहेगा। झगड़े विवाद अथवा कोर्ट कचहरी से संबंधित मामले बाहर ही सुलझा लें।

मिथुन-
मिथुन राशि से लाभभाव में आये सूर्य आपके लिए किसी वरदान से कम नहीं है, जिस भी कार्य में सफलता चाहेंगे हासिल कर लेंगे किंतु परिवार के वरिष्ठ सदस्यों तथा भाइयों से मतभेद ना पैदा होने दें। संतान के दायित्व की पूर्ति होगी शिक्षा-प्रतियोगिता में अच्छी सफलता मिलेगी। प्रेम संबंधी मामलों में उदासीनता। केंद्र अथवा राज्य सरकार के विभागों में प्रतीक्षित कार्य संपन्न होंगे। योजनाओं को गोपनीय रखें।

कर्क-
कर्क राशि से दशमभाव में सूर्य, आपके लिए सर्वाधिक प्रभावशाली रहेगा। मान सम्मान तथा पद और गरिमा की वृद्धि होगी। नौकरी में भी नए अनुबंध प्राप्ति के योग। उच्चाधिकारियों से सहयोग मिलेगा। चुनाव से संबंधित कोई निर्णय लेना चाह रहे हों तो अवसर बेहतरीन है। संतान संबंधी चिंता से भी मुक्ति मिलेगी। नवदंपति के लिए संतान प्राप्ति के भी योग। माता-पिता के स्वास्थ्य के प्रति चिंतनशील रहें। विदेश में नोकरी के योग।

सिंह-
सिंह राशि का स्वामी सूर्य अपनी राशि के जातकों के लिए बलवान होकर मूल त्रिकोण में होना कई तरह के अप्रत्याशित परिणाम दिलाएगा। आपके स्वभाव में उग्रता आ जाए। अपनी जिद एवं आवेश पर नियंत्रण रखते हुए कार्य करेंगे तो अधिक सफल रहेंगे। उच्चाधिकारियों से भी मतभेद न पैदा होने दें। भाग्योन्नति के साथ विदेशी नागरिकता के लिए भी प्रयास करना चाहे तो अवसर अनुकूल रहेगा। विदेशी मित्रों से सहयोग मिल सकता है।

कन्या-
कन्या राशि से अष्टम भाव में पंहुंचे सूर्य का प्रभाव काफी मिलाजुला रहेगा। अग्नि, विष और दवाओं के रिएक्शन से बचें। झगड़े विवाद से भी दूर रहें। कोर्ट कचहरी से संबंधित मामले बाहर ही सुलझाएं। दांपत्य जीवन में भी कटुता न आने दें। विद्यार्थियों एवं प्रतियोगिता में बैठने वाले छात्रों को परीक्षा में अच्छे अंक लाने के लिए और प्रयास करने होंगे। आपके पक्ष में किसी बड़े पुरस्कार अथवा सम्मान की घोषणा हो सकती है। स्वास्थ्य के प्रति चिंतनशील रहें।

तुला-
तुला राशि से सातवें भाव में सूर्य का प्रभाव कई मामलों में बहुत अच्छा रहेगा। दांपत्य जीवन में कटुता आ सकती है पति-पत्नी में से किसी एक का स्वास्थ्य भी खराब हो सकता है। शासन सत्ता का पूर्ण सहयोग मिलेगा। केंद्र अथवा राज्य सरकार के विभागों में प्रतीक्षित कार्यो का निपटारा होगा। सरकारी टेंडर के लिए भी आवेदन करना चाह रहे हों तो अवसर अनुकूल रहेगा। अपनी ऊर्जाशक्ति का पूर्ण उपयोग करते हुए कार्य करेंगे तो अधिक सफल रहेंगे। ससुराल पक्ष से रिश्ते बिगड़ने न दें।

वृश्चिक-
वृश्चिक राशि से छठे शत्रु भाव में सूर्य आपके लिए हर तरह से सफलता ही दिलाएंगे। इस अवधि के मध्य किसी को भी अधिक धन उधार के रूप में न दें अन्यथा आर्थिक हानि की संभावना रहेगी। व्यर्थ यात्रा तथा भागदौड़ की भी अधिकता रहेगी। कार्यक्षेत्र का विस्तार होगा। आय के साधनों में वृद्धि होगी, रुका हुआ धन भी वापस मिलने के संकेत। नौकरी में पदोन्नति तथा नए अनुबंध की प्राप्ति के योग। गुप्त शत्रु परास्त होंगे। कोर्ट कचहरी के मामलों में भी निर्णय आपके पक्ष में आने के संकेत।

धनु-
धनु राशि से पंचम भाव में सूर्य शिक्षा-प्रतियोगिता में अच्छी सफलता दिलाएंगे। विज्ञान तथा इंजीनियरिंग के क्षेत्र के छात्रों के लिए तो यह समय किसी वरदान से कम नहीं है इसलिए परीक्षा में और अच्छे अंक लाने के लिए पढ़ाई के प्रति चिंतनशील रहें। संतान संबंधी चिंता से मुक्ति मिलेगी। नवदंपति के लिए संतान प्राप्ति एवं प्रादुर्भाव के भी योग। परिवार के वरिष्ठ सदस्यों एवं बड़े भाइयों से मतभेद न पैदा होने दें। सरकारी विभागों में प्रतीक्षित कार्य संपन्न होंगे। रोमांस के मामलों में उदासीनता रहेगी।

मकर-
मकर राशि से चतुर्थ भाव में सूर्य का प्रभाव अधिक उतार-चढ़ाव वाला रहेगा। सफलता और संघर्ष दोनों साथ-साथ चलेगा। कई तरह के अप्रत्याशित परिणाम भी मिलेंगे, जिसके परिणामस्वरूप तनाव तो बढ़ेगा। पारिवारिक कलह एवं मानसिक अशांति भी बढ़ सकती है। आपके अपने ही लोग नीचा दिखाने की कोशिश करेंगे। माता पिता के स्वास्थ्य के प्रति भी चिंतनशील रहें। जमीन जायदाद से संबंधित प्रतीक्षित मामलों का निपटारा होगा।

कुंभ-
कुंभ राशि से पराक्रम भाव में सूर्य का प्रभाव आपके लिए किसी वरदान से कम नहीं रहेगा। अपने अदम्य साहस एवं पराक्रम के बल पर कठिन परिस्थितियों पर भी आसानी से विजय प्राप्त कर लेंगे। छोटे भाइयों से मतभेद न पैदा होने दें। विद्यार्थियों एवं प्रतियोगिता में बैठने वाले छात्रों के लिए तो समय और अनुकूल रहेगा। विदेशी कंपनियों में सर्विस एवं नागरिकता के लिए किया गया प्रयास सफल रहेगा। अपनी योजनाएं गोपनीय रखें और आगे बढ़ें। धर्म एवं आध्यात्म के प्रति रुचि बढ़ेगी और दान-पुण्य भी करेंगे।

मीन-
मीन राशि से धन भाव में सूर्य का प्रभाव मिलाजुला रहेगा। परिवार में अलगाववाद की स्थिति भी उत्पन्न हो सकती है, इसे ग्रह-गोचर समझकर बढ़ने न दें, अपने स्वभाव तथा वाणी में भी उग्रता न आने दें। स्वास्थ्य विशेषकर के दाहिनी आंख से संबंधित समस्या के प्रति सावधान रहें। झगड़े विवाद से दूर रहें और कोर्ट कचहरी के मामले भी बाहर ही सुलझाएं। इस अवधि के मध्य आर्थिक हानि की भी संभावना बन रही है अतः किसी को भी अधिक धन उधार के रूप में न दें क्योंकि वह धन समय पर नहीं मिलेगा।

धर्म और संस्कृति