देहरादून में युवक की चाकू मारकर हत्‍या, चौकी इंचार्ज लाइन हाजिर

देहरादून। देहरादून की पटेलनगर कोतवाली क्षेत्र के गांधीग्राम में पुरानी रंजिश में युवक की हत्या कर दी। मृतक के घरवालों ने हंगामा किया और पुलिस की भूमिका पर भी गम्भीर सवाल उठाए।

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक देहरादून योगेंद्र सिंह रावत और पुलिस अधीक्षक नगर सरिता डोबाल ने स्वजनों को शांत कराया।

मामले में प्राथमिक स्तर पर लापरवाही बरतने पर वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने पटेलनगर की बाजार पुलिस चौकी के इंचार्ज नवीन जोशी को लाइन हाजिर कर दिया है। 

पुलिस के अनुसार गांधीग्राम निवासी संदीप पाल का उसके घर से कुछ ही दूरी पर रहने वाले अल्लाहरक्खा और उसके छोटे भाई अल्लाहद्दीन से लंबे समय से विवाद चल रहा था। कई बार दोनों पक्षों में झगड़ा भी हुआ। 16 फरवरी को भी दोनों पक्षों में झगड़ा हुआ था। जिसके बाद बाजार चौकी पटेलनगर इंचार्ज नवीन जोशी ने संदीप पाल के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया था। हालांकि, अगले ही दिन 17 फरवरी को उसे कोर्ट से जमानत मिल गई थी।

ताजा घटनाक्रम के अनुसार आज शुक्रवार 19 फरवरी की शाम संदीप पाल नाले में घर का कूड़ा फेंकने गया था। यह नाला अल्लाहरक्खा के घर के पास से बहता है। इसी दौरान उसका अल्लाहरक्खा से झगड़ा हो गया। बीच-बचाव किए जाने पर दोनों अपने-अपने घर चले गए।

लेकिन कुछ देर बाद संदीप अपने घर से चाकू लेकर अल्लाहरक्खा के घर पहुंच गया। संदीप ने अल्लाहरक्खा को घर स बाहर खींचकर उसके पेट में चाकू से कई वार कर दिए। घटना को अंजाम दे कर संदीप घटना स्थल से भाग निकला।

लहूलुहान अल्लाहरक्खा को परिजन अस्पताल ले कर गए जहां उसकी मृत्यु हो गई। इसके बाद दोनों पक्षों के लोग आमने-सामने आ गए। मामला संवेदनशील देख एसएसपी डॉ. योगेंद्र सिंह रावत, एसपी सिटी सरिता डोबाल, सीओ मसूरी नरेंद्र पंत, कैंट इंस्पेक्टर विद्याभूषण नेगी, वसंत विहार के इंस्पेक्टर देवेंद्र सिंह चौहान, नेहरू कॉलोनी के इंस्पेक्टर राकेश गुसांई फोर्स सहित घटनास्थल पर पहुंच गए। 

वहीं, घटना के कुछ घंटे बाद ही पुलिस ने हत्यारोपित को गिरफ्तार कर लिया।

धर्म और संस्कृति