उत्तराखण्ड में शराब सस्ती, अब ठेका सीधे 2 साल के लिए

देहरादून। नई आबकारी नीति को पारदर्शी बनाने के साथ ही साथ शराब के दाम कम करके, शराब पीने वाली जनता के जेब पर बोझ कम कर दिया गया है।

साथ ही शराब के ठेकेदारों को राहत देते हुए दुकानों के कोटे को भी कम किया गया है।

उत्तराखण्ड में शराब से कोविड सेस हटने के बाद अब शराब की कीमत लगभग वर्ष 2018 वाली हो जाएगी।

साथ ही शराब की दुकानों के रिन्यूवल की व्यवस्था को समाप्त कर दिया गया है।

दुकानों का कोटा करीब 20 फीसदी तक कम होने से शराब व्यापारी को भी राहत मिलेगी।

जबकि इस वर्ष जो भी ठेका लिया जाएगा वो सीधे दो वर्ष के लिए होगा।

सभी प्रकार के देशी, अंग्रेज़ी व बियर शॉप ठेके इस साल 2 साल के लिए ही उठेंगे। यानी 2023 मार्च तक उस ठेके का संचालन करना होगा।

शराब पीने वाले शराब बेचने वाले, दोनों को ही सरकार में राहत दी है।

धर्म और संस्कृति