‘आप’ ने फोटो प्रदर्शनी लगा दिखाए उत्तराखण्ड के दयनीय जर्जर के स्कूलों के हालात, #SelfieWithSchool अभियान

आम आदमी पार्टी ने फोटो प्रदर्शनी के जरिए दिखाई उत्तराखण्ड के जर्जर पड़े सरकारी स्कूलों के हालात

उत्तराखण्ड की शिक्षा सिस्टम पर बड़ा तमाचा: आप

देहरादून। आम आदमी पार्टी ने आज पूरे प्रदेश में #selfiwithschool अभियान के दौरान जनता द्वारा भेजी तस्वीरों की आज 13 जिलों में प्रदर्शनी लगाई जिसका मकसद सरकार के उन दावों की पोल खोलना था जिसमें वो बेहतर शिक्षा व्यवस्था और बेहतर सिस्टम का दावा कर उत्तराखंड की जनता को बरगलाने का काम कर रही थी। राजधानी देहरादून में, आप ने प्रदेश कार्यालय में फ्लेक्स के जरिए उन तस्वीरों को दिखाने की कोशिश की जो उत्तराखंड के जर्जर हो चुके स्कूलों और यहां के बेहतर स्कूली सिस्टम का दावा करने वाली बीजेपी सरकार के मुंह पर करारा तमाचा था। आप के कार्यालय में सुबह से आम जनता ने भी इन तस्वीरों को देखने के लिए आप कार्यालय का रुख किया।

आप प्रदेश प्रवक्ता संजय भट्ट ने इस दौरान बताया ,बीजेपी सरकार बेहतर शिक्षा के खोखले दावे करती है । इन तस्वीरों से ये बात सिद्ध हो गई उत्तराखंड में जीरो वर्क सीएम है यहां के स्कूलों के हालत देखकर लगता है बच्चे अपनी जान जोखिम में डाल कर यहां पढ़ने को मजबूर है और यहां के मंत्री विधायक जनता को बरगलाने का काम कर रहे हैं।

वहीं इस दौरान आप प्रवक्ता नवीन ने कहा, मनीष सिसोदिया ने उत्तराखंड दौरे पर डिबेट के आमंत्रण पर मदन कौशिक के ना आने पर जब मनीष सिसोदिया मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत के विधानसभा के एक स्कूल को देखने गए और वहां के हालत को देखने के बाद मनीष सिसोदिया ने उत्तराखंड के स्कूलों के हालत पर चिंता जताई। मनीष सिसोदिया के दिल्ली लौटने के बाद बीजेपी के मंत्री विधायक सभी उत्तराखंड में बेहतर स्कूलों के दावे के साथ मनीष सिसोदिया पर सवाल उठाने लगे । इसके बाद आम आदमी पार्टी ने जनता को निर्णायक भूमिका में डालते हुए सैल्फी विद स्कूल अभियान चलाया जिसमें जनता ने अपने आस पास के जर्जर हालत बदहाली के हालत वाले सैकड़ों स्कूलों की फोटो सोशल मीडिया पर डालने के साथ साथ आप को भेजी । आप पार्टी द्वारा शुरु किया गया सैल्फी विद स्कूल अभियान को प्रदेश की जनता ने पूर्ण समर्थन दिया। इन तस्वीरों ने सरकार के सारे दावों की पोल खोल कर रख दी। सरकार का झूठ सामने आया और जनता भी ये समझ पायी कि कैसे सरकार द्वारा कोरी अफवाहें फैलाई जाती हैं जो जनता को भ्रमित करती है।

आप नेता नवीन ने कहा कि उत्तराखंड में इन स्कूलों के जर्जर भवनों में छात्र और शिक्षक अपनी जान जोखिम में लेकर आते हैं। सरकार लाख दावे करे लेकिन उत्तराखंड में इन स्कूलों की तस्वीरों ने ये बात साबित कर दी है कि स्कूली शिक्षा के क्षेत्र में कोई भी विकास नहीं हुआ है। कई स्कूल ऐसे हैं जो जर्जर स्थिति में हैं। खुद मुख्यमंत्री की विधानसभा के एक स्कूल का दिल्ली के उपमुख्यमंत्री और आप के वरिष्ठ नेता मनीष सिसोदिया जी ने भ्रमण कर जनता को सच्चाई बताई थी।

पहाडों से जर्जर हो चुके सैकड़ों ऐसी तस्वीरें सामने आई हैं जो ये बताने के लिए काफी है कि आखिर कैसे शिक्षक उन स्कूलों में बच्चों को पढ़ाने को मजबूर है जहां हर समय जान का खतरा है। इन स्कूलों में हालात इतने बद्तर हैं कि यहां शिक्षा लेना और देना किसी इम्तिहान से कम नहीं है। उन्होंने कहा कि करोडों रुपये का बजट शिक्षा के लिए सरकार बनाती है और तय करती है लेकिन आखिर उस बजट को सरकार ने अभी तक कहां खर्च किया जनता को इसकी जानकारी सरकार को देनी चाहिए। आप प्रवक्ता ने कहा कि आप पार्टी आगे भी ऐसे अभियानों की शुरुआत प्रदेश में करेगी ताकि सरकार के सफेद झूठ जनता के सामने आएं।

आप प्रवक्ता ने कहा, बीजेपी के मंत्री, विधायक कहते तो बहुत कुछ हैं लेकिन करते कुछ नहीं है। उन्हें विकास के कार्यों पर 5 सवालों के जवाब मांगे गए थे लेकिन उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया। सरकार के शासकीय प्रवक्ता मदन कौशिक ने मनीष सिसोदिया के सवाल पर , 5 नहीं बल्कि 100 काम गिनाने की बात की थी लेकिन जब चर्चा की बारी आई तो मदन कौशिक जी भाग खडे हुए। इसके बाद सरकार के दावों की पोल खुद प्रदेश की जनता ने ही सैल्फी विद अभियान के माध्यम से दिखाई जिसे आज आप ने प्रदर्शनी के माध्यम से जनता के बीच रखा।

जनता ने इस अभियान के माध्यम से ना सिर्फ स्कूलों की तस्वीरें साझा कीं बल्कि अन्य जर्जर हो चुके कई सरकारी भवनों की तस्वीरें भी भेजी। आप प्रवक्ता ने सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि इस प्रदर्शनी ने जनता को तो जागरुक कर दिया है लेकिन ये सरकार भी बहुत जल्द जनता के सामने बेनकाब होगी ,जिसके लिए आप आगे भी कई ऐसे अभियान प्रदेश में चलाएगी ताकि सरकार के कोरे झूठ का पर्दाफाश हो सके।

धर्म और संस्कृति