भूकंप: हरिद्वार में भूकंप, डोईवाला रहा केंद्र

हरिद्वार। उत्तराखण्ड के हरिद्वार में मंगलवार को सुबह 9 बजकर 42 मिनट पर भूकंप के झटके महसूस किए गए। रिक्टर पैमाने पर इसकी तीव्रता 3.9 मैग्नीट्यड मापी गई है, जिसकी गहराई तकरीबन 10 किलोमीटर थी।

मौसम विज्ञान विभाग के अनुसार देहरादून में इसकी तीव्रता तीन से कम रहने के कारण झटके आंशिक रूप से महसूस किए गए। भूकंप से नुकसान की कोई सूचना नहीं है।

आइआइटी रुड़की के विशेषज्ञों के अनुसार उत्तराखण्ड हमेशा से ही भूकंप के लिहाज से काफी संवेदनशील माना जाता है। ऐसे में आने वाले दिनों में भी भूकंप की संभावना को नकारा नहीं जा सकता है।

हरिद्वार जिला प्रशासन ने भूकंप के झटकों को लेकर सभी को अलर्ट किया है। जिला आपदा प्रबंधन के अनुसार भूकंप के झटके दोबारा भी आ सकते हैं।

आपदा प्रबंधन अधिकारी मीरा कैंतूरा ने बताया कि भूकंप के झटकों का केंद्र हरिद्वार रीजन है, लेकिन जिले में यह किस स्थान पर है, इसकी जानकारी सही तौर पर नहीं मिल पाई है। उन्होंने बताया कि भूकंप से जिले में जान-माल के नुकसान की फिलहाल कोई सूचना नहीं है। भूकंप के मद्देनजर आपदा प्रबंधन की तैयारियों की समीक्षा के लिए जिलाधिकारी सी रविशंकर ने दोपहर बाद बैठक बुलाई है।

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आइआइटी) रुड़की के भूकंप अभियांत्रिकी विभाग के पूर्व विभागाध्यक्ष प्रोफेसर एमएल शर्मा ने बताया कि हरिद्वार से करीब 25 किलोमीटर दूर डोईवाला के पास भूकंप का केंद्र रहा है।

आइआइटी रुड़की की ओर से लगाए गए 18 टिहरी नेटवर्क में भूकंप रिकॉर्ड किया गया। प्रोफेसर शर्मा के अनुसार अभी ऐसी कोई तकनीक विकसित नहीं हुई है, जिससे कि यह कहा जा सके कि भूकंप कब, कहां और कितनी तीव्रता का आएगा। पर उत्तराखंड भूकंप के लिहाज से संवेदनशील राज्य है। इसीलिए यहां पर आने वाले दिनों में भी भूकंप आने की संभावना बनी हुई है।

पिछले कुछ समय से बार-बार आने वाले भूकंप के डाटा को लेकर आइआइटी रुड़की में शोध किया जा रहा है, लेकिन अभी किसी निष्कर्ष पर नहीं पहुंचा जा सका है।

धर्म और संस्कृति