कोरोना काल में नियमों का उल्लंघन व गम्भीर आरोपों से घिरी कांग्रेस के नेता नौटंकी में व्यस्त :BJP अध्यक्ष भगत

देहरादून। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष बंशी धर भगत ने कहा है चीन से पैसा लेने, प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राहत कोष से जनता का धन अपने घरेलू राजीव गांधी फ़ाउंडेशन में डालने व चीन की हिमायत करने जैसे गम्भीर मामलों से घिरी कांग्रेस के नेता जनता का ध्यान हटाने के लिए नौटंकी करने में जुटे हैं।

एक बयान में भाजपा उत्तराखण्ड के प्रदेश अध्यक्ष बंशी धर भगत ने कहा कि कांग्रेस नेता व पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत द्वारा जो बैलगाड़ी रैली निकाली गई और प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह द्वारा प्रेस वार्ता में अनर्गल आरोप लगाए जा रहे हैं वे एक हास्यास्पद संदेश दे रहे है। क्योंकि आज करोना काल में जहां देश एक तरफ कोविड-19 जैसी महामारी से लड़ रहा है और पूरे देश व प्रदेश की सरकारें जहां सोशल डिस्टेंस का पालन करते हुए विकास को पटरी ला रही हैं, वहीं कांग्रेस नेता अपने कार्यकर्ताओं के साथ कोविड-19 के नियमों की धज्जियां उड़ा रहे हैं, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं कर रहे हैं।

जहां तक पेट्रोल की कीमत का सवाल है उनको यह रैली राजस्थान राज्य में निकालनी चाहिए जहां उनकी सरकार है वहां आज पेट्रोल के रेट पूरे भारत में सबसे ज्यादा हैं।

भगत ने कहा है कि कांग्रेस के बड़े नेता राहुल बाबा जो आज कांग्रेस के कार्यकर्ताओं से धरना प्रदर्शन करने का आह्वान कर रहे हैं। वह एक नकारात्मक सोच का परिचय दे रहे हैं। जबकि यह समय विरोध व प्रदर्शन करने का नहीं है, देश के साथ खड़ा होकर देश हित में कार्य करना चाहिए।

बंशीधर भगत ने कहा जहां तक कांग्रेस पार्टी का सवाल है कांग्रेस हर समय कोई भी मुद्दा हो चाहे वह राष्ट्रीय सुरक्षा से संबंधित हो या कोविड-19 जैसी महामारी बीमारी लड़ने का विषय हो, वह अपनी नकारात्मक सोच से मीडिया में बने रहने के लिए अपने अस्तित्व को तलाश रही है। आज कांग्रेस को आम जनता ने अपने दिल और दिमाग से हटा लिया है, तो वह इस प्रकार की सस्ती राजनीति कर अपने आप को जीवित रखना चाहती है।

बंशीधर भगत ने कहा है कि आज पूरा देश लॉकडाउन के बाद अब अनलॉक डाउन की ओर बढ़ रहा है। इसलिए कोरोना से हम सबको बचाव के लिए बनाए गए नियमों को पूर्ण रुप से पालन करना चाहिए। यह सही है कि एक बड़े कालखंड में हम लॉकडाउन के चलते घर पर रहकर हमारी दिनचर्या प्रभावित जरूर हुई है। इससे कहीं ना कहीं राष्ट्र व प्रदेश के व्यक्ति को आर्थिक व मानसिक रूप से बड़ा प्रभाव पड़ा है। इस वक्त चाहे वह विपक्ष हो या कोई राजनीतिक संगठन सामाजिक संगठन हो उसे कोरोना नियंत्रण सभी नियमों का पूर्ण रुप से पालन करते हुए तथा सकारात्मक सोच के साथ राष्ट्र हित में कार्य करना चाहिए।

धर्म और संस्कृति