The95news गैरसैंण बनी उत्तराखण्ड राज्य की ग्रीष्मकालीन राजधानी, मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने गैरसैंण में बजट सत्र-2020-21 के बाद कि घोषणा The95news ऑनलाइन ठगी कैसे होती है जानें, पढ़ें और बचें The95news दिल्ली हिंसा: टिहरी के विनोद प्रसाद ममगाईं की चाकुओं से गोद कर हत्या, हाथ काटे, पौड़ी के दिलवर सिंह नेगी की भी हुई थी ऐसे ही हत्या The95news गैरसैंण बनी उत्तराखण्ड राज्य की ग्रीष्मकालीन राजधानी, मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने गैरसैंण में बजट सत्र-2020-21 के बाद कि घोषणा The95news देहरादून: शाहीन बाग का धरना 13 से फिर होगा शुरू, फिलहाल स्थगित The95news
Breaking News

AIIMS ऋषिकेश का बज रहा डंका, एम्स व अमेरिकी कंपनी इवोल्को के मध्य टेलीमेडिसिन तकनीक का करार

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश व अमेरिकी कंपनी इवोल्को के मध्य टेलीमेडिसिन तकनीक को लेकर करार हुआ है। इसके बाद टेलीमेडिसिन की तकनीक अमेरिकन/भारतीय कंपनी इवोल्को द्वारा उपलब्ध कराई जाएगी।

इसका सर्वाधिक लाभ उत्तराखंड के चिकित्सा सुविधाओं से विहीन सुदूर पर्वतीय इलाकों में रहने वाले लोगों को घर बैठे मिल सकेगा और वह इस तकनीक से एम्स के विशेषज्ञ चिकित्सकों से स्वास्थ्य संंबंधी परामर्श ले सकेंगे। एम्स निदेशक रवि कांत ने बताया कि इवोल्को कंपनी कैलिफोर्निया में स्थापित है,जिसकी भारत में लखनऊ व बेंगलुरु में शाखाएं स्थापित हैं। कंपनी ने आर्टिफिसियल इंटेलिजेंस पर आधारित पेशेंट स्क्रीनिंग एंड टेलीमेडिसिन तकनीकि को विकसित करने का कार्य किया है।

उन्होंने बताया कि पर्वतीय इलाकों में रहने वाले लोगों को चिकित्सा सेवाएं उपलब्ध कराने के लिए एम्स संस्थान ने कंपनी के साथ करार किया है। निदेशक एम्स प्रो. रवि कांत ने बताया कि टेलीमेडिसिन तकनीक से दूर दराज के पहाड़ी क्षेत्रों के मरीज एम्स के विशेषज्ञ चिकित्सक से घर बैठे ही चिकित्सकीय सलाह प्राप्त कर सकेंगे। इससे पर्वतीय क्षेत्रों में निवास करने वाले लोगों को न सिर्फ शीघ्र चिकित्सकीय सहायता मिलेगी वरन वह अपने गांवों से सैकड़ों किलोमीटर की लंबी दूरी तय कर उपचार के लिए एम्स ऋषिकेश में आने की समस्या से निजात पा सकेंगे। इससे उनके समय व धन की मितव्ययता भी नहीं होगी। एम्स टेलीमेडिसिन यूनिट की नोडल ऑफिसर प्रो. वर्तिका सक्सेना ने बताया कि समझौता ज्ञापन पर एम्स की ओर से निदेशक प्रो. रवि कांत व इवोल्को कंपनी की ओर से वरिष्ठ उपाध्यक्ष डा. विनीत ध्यानी ने हस्ताक्षर किए।

गौरतलब है कि एम्स ऋषिकेश की स्थापना रोगियों कोबेहतरीन स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध कराने के लिए की गई है,जिसके तहत एम्स प्रशासन मरीजों को विश्वस्तरीय स्वास्थ्य सेवाएं मुहैया कराने को सतत प्रयासरत है। इसी उद्देश्य से अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान ऋषिकेश में वर्ष 2018 के जून माह में टेलीमेडिसिन इकाई की स्थापना की गई,इकाई के माध्यम से दुर्गम पहाड़ी क्षेत्रों में स्थापित स्वास्थ्य केंद्रों में टेली परामर्श, टेली चिकित्सा सेवा व टेली चिकित्सा शिक्षा उपलब्ध कराई जा रही है। इस अवसर पर एम्स टेलीमेडिसिन यूनिट के सदस्य डा. योगेश बेहुरूपी,डा.मधुर उनियाल आदि मौजूद थे।

About admin

Check Also

Coronavirus गढ़ी, श्यामपुर निवासी एक 24 वर्षीय युवक की मृत्यु, सतपाल महाराज परिवार के 7 सदस्य भर्ती, रुड़की के 5 पॉजिटिव – AIIMS Rishikesh

385 अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश में भर्ती हाईटेंशन लाइन के करंट से झुलसे …