विवाहिता गायब, ग्रामीणों का प्रदर्शन

The95news, थराली/चमोली। हमारे संबाददाता। डेढ़ माह पूर्ब लापता विवाहिता को न ढूंढ पाने पर चोंदा गांव के ग्रामीणों ने थराली तहसील पर प्रदर्शन किया और प्रशासन पर मामले को गंभीरता से न लेने का आरोप लगाया है। ग्रामीणों का कहना है कि प्रशासन मामले मे किस भी प्रकार से सक्रियता नहीं दिखा रहा है। 

विवाहिता के भाई पुष्कर सिंह बिष्ट ने बताया कि उसकी बहिन पवित्रा देवी का विवाह 15 साल पहले देवसारी गांव निवासी वीरेंद्र सिंह पुत्र पुष्कर सिंह के साथ हुआ था, लेकिन ससुराल मे वह खुश नही थी, पूर्व मे दो-तीन बार बताया था कि ससुराल मे उसके साथ मारपीट की गई। अचानक 5 दिसंबर को वह गांव से लापता हो गई, मुझे आशंका है कि मेरी बहन को उसके पति, सास-ससुर द्वारा षडयंत्र कर हत्या कर दी गई है। कहा कि उसके द्वारा उप जिलाधिकारी थराली को इस सम्बंध मे पत्र दिया गया था तब उप जिलाधिकारी ने राजस्व उप निरीक्षक ग्वालदम को मामले में प्राथमिकी दर्ज करने और मामले की जांच रेगुलर पुलिस को हस्तांतरण करने के निर्देश दिए थे। लेकिन राजस्व उपनिरीक्षक ग्वालदम द्वारा इस संबंध में कोई भी प्राथमिकी दर्ज न कर सीधे मेरे प्रार्थना पत्र को सीधे रेगुलर पुलिस को दे दिया था। दो सप्ताह बाद 3 जनवरी को जब उसके द्वारा पुलिस को पूछा गया तो उसे बताया गया कि अभी प्राथमिक दर्ज भी नहीं हुई है। 

इस प्रकार मामले मे हो रही देरी से नराज चोंदा के ग्रामीणों ने शुक्रवार को थराली तहसील पर नारेबाज़ी कर प्रदर्शन किया और विवाहिता को ढूढ़ने की मांग की। ग्रामीणों ने आरोप लगाया कि पुलिस और प्रशासन इस मामले को गंभीरता से नहीं ले रही है जबकि उन्हें संदेह है कि पति एवं ससुराल वालों ने पवित्रा देवी के साथ अनहोनी घटना को अंजाम दे दिया है । 

ग्रामीणों ने पुलिस व प्रशासन को इस मामले में 15 दिन का समय देते हुए कार्यवाही करने की चेतावनी देते हुए कहा कि कहा है यदि 15 दिन के यदि प्रशासन कार्यवाही नही करता है तो ग्रामीण आंदोलन करेंगे।

पूछे जाने पर थाना प्रभारी सुभाष ज़खमोला ने बताया कि पुलिस मामले की जांच कर रही है और जल्द ही इसका खुलासा कर दिया जाएगा।

इस दौरान विनोद रावत, सुषमा देवी, प्रदीप रावत ,संजीव बुटोला, भगत सिंह ,सुरेंद्र फर्स्वाण ,कुंवर सिंह राकेश भारद्वाज,मीना देवी हेमलता देवी ,धर्मा देवी, मंजू देवी कमला देवी, यशोदा देवी ,काली देवी आदि मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

धर्म और संस्कृति